Posts

Showing posts from February, 2018

expectations of a person from god of temple..mosque

Friends, when all the expectations of a person, everything seems to end, then he starts going towards the temple, the mosque , the house of god . With this hope, God sitting there will remove all his problems and he will be able to overcome all the troubles 



                                        But friends, is this true? Is this really possible? Every person will have their own opinion on this, but I believe that this is not true at all. If that happens, then all the people living in this world will never be able to cope with the problem of life because of our sovereign thinking, To do so, a doctor is sitting in the churches, temples, gurudwaras, whoever Allah says, then no god is any master



                                                     There is a lot of religion in this world and all the stereotypes of these religions know very little about their boss that what they said about the goodness of mankind, in whatever way they have given the mantra knowledge that ever The flesh-ma…

where , what and how is god

Image
From starting  to till 21th century, world has gone on Moon and sent Rovers to Mars , satellite on Jupiter and  other planets. Even we have programmed to send men on Mars. But we could not find where is GOD, what is GOD,how is GOD. Some say  God is above in the sky. some say inside the Earth at centre.Devotees say god is in temple, church,mosque,gurudwara etc. But science says anything  lives at one place at a time, never be at another place. Then how is this possible God as one identity presents in temple, church , mosque, gurudhwara at same time.



                  world greatest scientist sir Isaac newton once said after his "law of gravitation theory discovery "that i don't know who, where, and how is God but with firm determination i can say that something mighty power is created us and this universe  . Even very very  very great personalities who ever lived on this planet earth said nothing about god but they said the thoughts of God. They were  Gautam Buddha , Jesu…

INDIAN DEMOCRACY PRACTICALLY WORST BUT WORLD BIGGEST

Image
 India has the biggest, best  and  smartest democracy in the world. but despite of best why it does not work properly. why India suffers from numbers of scams, corruption,  poverty ,unemployment .countries like America Russia Japan  China talk on topic like bullet trains , space science,advanced technology but India talk on honesty and dishonesty. Indian media always busy in defining a politician about his/her honesty and dishonesty. if a good leader wants to elect a good MP or MLA for coming election then he/she takes a month on researching either he is honest or not. 


                Where is fault. is god made chinese, american, japanese different from us. or we mentally very poor than above mention countries people. how we can different from them if only one mighty power has created them and us.are we indians don't want development of india. we all are happy with  this india present condition. if not and we common people honest and support development then where is wrong. 
     …

Environmental pollution is a serious international problem

Image
In front of the world humanity, in the midst of the advanced scientific inventions and advanced peaks of civilization, the disturbing monster of pollution is standing in front of it. Its spread of water has spread to the three worlds, to become familiar with this fact and in many ways Despite having suffered the consequences, the man is not being conscious, the defect of throwing on one another, the separation of separation, promotes this mood



      Though the deep flow of pollution has caused a rot in the thoughts and behavior of the people, but the pollution of the water-borne air has put the question mark in front of the existence of the earth and its inhabitants, from bigger factories and cities to concrete and gas Continuous exhaustion of pollution is causing the poison in the earth's atmosphere and the atmosphere. The modern civilization that came from Europe came from the flow of trees and rivers. Rati has been deprived of Saradha and human sensation, we have been cutting tr…

BEFORE ON EARTH THERE WERE PEOPLE ON THE VENUS

the points which support that ever there were people like us on the venus


we know that venus is the highest hottest planet of our galaxy it temperature is about 500 degree celcius  but because of the nearest to the sun, mercury should have been most hottest.  since LAW of science says that the greater far you go from the hot body lesser heat you get or receive 

it means that sometime the venus had less temperature than the mercury but due increasing in the amount of carbon dioxide the temperature gradually increased. because we all know that the increasing in carbon dioxide brings green house effect


according to science the carbon dioxide increases  when there are carbon contained materials like trees, living creatures,  coals, minerals etc 


ever in the past the lots of meteroids interred in the atmosphere of the venus and causes collision between venus and them lead to a big fire all over the venus 


 all these carbon contained things there  would be burnt fully at same time produced carbo…

Call of a daughter from the mother's womb

Mother! i am your daughter mother

Do not kill me


Mother!, I will understand all your troubles, difficulties.

I will move my steps to defeat it


 mother! Do not kill me

Because i am your daughter mother


When you get angry I will celebrate the fairy tales.

Moon stars will complain of your heart depression

I will answer the return of your sweet smile from the rabbis


 mother! Do not kill me

Because i am your daughter mother


When you sleep I will sleep, too

When you cry, then I will cry

I will put the thread for Papa Bhaiya in the kitchen works.

When you get tired I will press your peer away from you.


 mother! Do not kill me

Because i am your daughter mother


When you are sick, you will be helpless to walk

Then I will take you to the doctor

When the treatment is done, I will bring home home.

Will catch you by hand and save you from Papa's Dot



 mother! Do not kill me

Because I'm your daughter mother



mother ! mother ! O mother

Are you listening

Are you listening




From the pen of Pawan Kumar

ग्लोबल वार्मिंग एक बड़ा कैंसर!

हमारे परिवेश में जब कोई व्यक्ति कैंसर से ग्रस्त होता  है और वह गंभीर स्थिति में है, तो हम सांत्वना देने के लिए उनके  घर जाते हैं यदि वह हमारे समाज का सदस्य है, तो हम भावनात्मक नहीं होते हैं।पर  अगर वह हमारे परिवार के सदस्य से है तो हम भावनात्मक हो जाते हैं, यदि नही  तो  हम भावनात्मक होने की कोशिश करते हैं। लेकिन मरीज के मन में क्या हो रहा है, वह खुद ही खुद को और बेहतर जानता है और भगवान भी। पूरी तरह से मनोवैज्ञानिक अस्वास्थ्यकर, निराश हो जाते हैं।







                                       सोचो कि ऐसी बीमारी आती है और इस ग्रह के सभी प्राणियों को अपने चपेट में  ले लेती  है !!! मानो  विश्व युद्ध तीसरा शुरू हो गया  हो   आप सोच रहे हैं कि यह कैसे होगा? इसका प्रकार  क्या होगा? यह कोई जैविक जीव नहीं होगा, लेकिन यह ग्लोबल वार्मिंग है




                      दोस्तों, भगवान ने हमें सभी जीवित चीजों के अस्तित्व के लिए एक बिल्कुल व्यवस्थित, उपयुक्त माहौल दिया है। सृष्टि की शुरुआत से लेकर 20 वीं शताब्दी तक के पहले दशक तक भगवान  के  अनुसार हर चीज प्रकृति में होती आयी है  लेकिन पहले विश्व युद्ध के बाद  सुपर …

पर्यावरण प्रदुषण एक गंभीर समस्या

अत्याधुनिक वैज्ञानिक आविष्कारों और सभ्यता के उन्नत शिखरों के सर पर पताका लहराने के गरूर में विश्व मानवता के समक्ष प्रदूषण का विकराल दैत्य आ खड़ा हुआ है इसकी काया का फैलाव जल थल नभ तीनों लोकों तक हो चूका है इस तथ्य से परिचित हो जाने और अनेक तरह के दुष्परिणामों को भोगने के बावजूद मनुष्य सचेत नहीं हो रहा है दोष एक दूसरे पर फेककर अलग खड़े हो जाने की प्रवीर्ति इस सालस्य को बढ़ावा देती है

      वैसे प्रदूषण का गहरा प्रवाव तो लोगों के विचार और ब्यवहार मे भी सड़ांध पैदा क्र चूका है परन्तु जल धरती वायु का प्रदुषण ने पृथ्वी और इसके निवासियों के अस्तित्व के सामने ही प्रश्न चिन्ह लगा दिया है बड़े बड़े कारखाने और नगरों से ठोस दर्व और गैस के रूप में लगातार निकलता प्रदूषण धरती जक और वायुमंडल तीनों में जहर घोलता जा रहा है यूरोप  के प्रवाव से आयी आधुनिक  सभ्यता ने पेड़-पौधों और नदियों के प्रति निहित सारधा और मानवीय संवेदना से हमें वंचित कर दिए है पेड़ पौधे काटकर बड़े बड़े कारखाने बैठाएं जा रहे हैं और उससे  निकले ठोस और द्रव  रूपों में कचरों को नदियों और आस पास के छेत्रों में भ और फैला दिया जाता है चिमनियों से …

भारतीय डेमोक्रेसी व्यावहारिक रूप से सबसे खराब लेकिन दुनिया में सबसे बड़ा है

भारत में दुनिया का सबसे बड़ा, सबसे अच्छा और सबसे चतुर लोकतंत्र है। लेकिन सबसे अच्छे के बावजूद यह ठीक से काम क्यों नहीं करता है। क्यों भारत घोटालों, भ्रष्टाचार, गरीबी, बेरोजगारी से ग्रस्त है। अमेरिका रूस जापान जैसे क्षेत्रों में बुलेट ट्रेन, अंतरिक्ष विज्ञान, उन्नत तकनीक जैसे विषय पर बात करते हैं लेकिन भारत ईमानदारी और बेईमानी पर बात करता है। भारतीय मीडिया हमेशा अपनी ईमानदारी और बेईमानी के बारे में एक राजनीतिज्ञ को परिभाषित करने में व्यस्त हैं। अगर कोई अच्छा नेता आने वाले चुनाव के लिए एक अच्छे सांसद या विधायक का चुनाव करना चाहता है तो वह शोध पर एक माह लेता है या तो वह ईमानदार है या नहीं।









                गलती कहां है भगवान ने हमें चीनी, अमेरिकी, जापानी अलग से बनाया है या हम ऊपर बताए गए देशों के लोगों की तुलना में मानसिक रूप से बहुत खराब हैं हम उनसे अलग कैसे कर सकते हैं यदि केवल एक ही ताकतवर शक्ति ने उन्हें और हमें बना दिया है। क्या हम भारतीयों को भारत का विकास नहीं करना चाहते हम सभी इस भारत वर्तमान स्थिति से खुश हैं। अगर नहीं और हम आम लोगों को ईमानदारी और समर्थन विकास करते हैं तो गलत क…

मंगल ग्रह पर बस्तियाँ बनाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है

हम सभी पृथ्वी पर रह रहे हैं क्योंकि सभी प्राणियों के अस्तित्व के लिए पहले से ही एक आदर्श माहौल था जो शक्तिशाली शक्ति द्वारा बनाई गई थी, हम मनुष्य इसे नहीं बनाया गया था



      इसका मतलब है कि हम सब पैदा होते हैं और धरती पर हैं, हम जीवित जीवों के अस्तित्व के लिए कुछ भी नहीं बना रहे हैं, लाखों साल पहले एक उपयुक्त माहौल विकसित किया गया था और इसके बाद जीवित प्राणियों अस्तित्व के रूप में आये, हम पहले नहीं आए और  अपने से  पर्यावरण बनाए


                                              हम सभी जानते हैं कि हमारी धरती जैसे मंगल पर ऐसा कोई माहौल नहीं है, तो एक आदमी मंगल पर कैसे रह सकता है, वहां कोई वायुगत जल नहीं है आदि यदि वह वहां हमारे ही जैसा पर्यावरण होता  तो वहां भी हमारे जैसे लोग होते


                                     हम इंसान हवा का पानी नहीं बना सकते हैं, फिर हमारे मंगल पर  अस्तित्व के बारे में बात कर रहे हैं अर्थहीन और बेबुनियाद है